Yahushua a [mere] man
When we affirm this fact, we are stating that he had a single nature, which was 100% human. The Bible does not speak about a dual nature Christ, fully divine and fully human. Such teaching is nonsensical, which Trinitarians and Oneness believers promote. WLC has freed itself from these falsehoods. Yahushua was a mere man up to his death. But after Yahuwah raised him from death, He elevated him above all angels and made Him second to Him alone. Such glorification was because he perfectly fulfilled Yahuwah's intent for humanity. Placing our complete trust in this Christ will avail us eternal life. The dual nature christ does not exist anywhere, and those who trust this non-existent [fictional] christ will forfeit their claim to eternal life. Click here to enjoy listening to this lecture on this subject by Bill Schlegel.
लेने से देना अधिक धन्य है . . . .

जब कोई घर में एक्लेसिया स्थापित करता है तो यह जानना अक्सर मुश्किल होता है कि दशमांश और भेंट के साथ क्या करना है। यह लेख दशमांश और भेंट पर बाइबिल के सिद्धांतों की पड़ताल करता है और सुझाव देता है कि कैसे उन्हें याहुवाह को लौटाया जा सकता है, यहां तक ​​कि घर में एक्लेसिया रखते हुए भी।

Comments: 0 
Hits: 42 
प्रार्थना : आत्मा की साँस

“प्रार्थना आत्मा की साँस है। यह आत्मीय शक्ति का रहस्य है। अनुग्रह के किसी अन्य साधन को प्रतिस्थापित नहीं किया जा सकता है और फिर भी आत्मा के स्वास्थ्य को संरक्षित किया जा सकता है। प्रार्थना हृदय को जीवन के स्रोत के साथ तुरंत संपर्क में लाती है, और धार्मिक अनुभव की नस और मांसपेशियों को मजबूत करती है।"

Comments: 0 
Hits: 46 
विश्वास ही विजय है!

सभी जो सच्ची सब्बात को स्वीकारते हैं, वे ऐसे मुश्किलों का सेमना करेंगे जो इन्सान द्वारा सुलझाया नहीं जा सकता। याहुवाह ऐसे परिक्षाओं को अनुमति देते हैं ताकि उनके बच्चे उनको ढूँढ सकें। यह केवल तभी होता है जब वाचा-रखने वाले एलोह के द्वारा दुर्गम समस्याओं का समाधान किया जाता है, एक व्यक्ति का विश्वास मजबूत होता है और विश्वास आज याह के बच्चों की सबसे बड़ी आवश्यकता है।

Comments: 0 
Hits: 45 
मसीही और अलंकरण

मनुष्य के मन के लिए, जो मूल रूप से उसके सृष्टिकर्ता की छवि में बनाया गया था, सुंदरता का आनंद लेना और उसकी इच्छा करना स्वाभाविक है। सबसे आम क्षेत्रों में से एक जिसमें लोग सुंदरता की अपनी इच्छा पर ध्यान केंद्रित करते हैं, वह है व्यक्तिगत अलंकरण। अपने बाह्य रूप की ओर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास करना घमंड का शिकार होना है, वह पाप जिसके लिए लूसिफर गिर गया। विश्वासी, इन अंतिम दिनों में, स्वर्ग की पवित्रता को विचलित करने वाली या गलत तरीके से प्रस्तुत करने वाली हर चीज को अलग रख देंगे।

Comments: 0 
Hits: 80 
आत्मा में और सच्‍चाई में आराधना करना

चाहे आप एक छोटे समूह के साथ आराधना कर रहे हों, या केवल अपने परिवार के साथ, या अपने आप से, घर पर उपासना करते समय एक समृद्ध सब्बात के दिन का आशीर्वाद प्राप्त करना संभव है।

Comments: 0 
Hits: 58 
सब्बात में प्रसन्न होना

सब्बात रखना एक भोझ नहीं बल्कि खुशी है! सब्बात को आनंदमय पाने का रहस्य सीखिए।

Comments: 0 
Hits: 90 
पापी की आशा: ये आदमी पापियों को स्वीकार करता है!

याहुवाह के पास आने के लिए आपको तब तक इंतजार करने कि जरूरत नहीं है जब आप पाप करना छोड़ दिया हो। अब ही आ जाइए। आप जैसे हैं वैसे ही, क्योंकि वह पापियों को स्वीकार करता है!

Comments: 0 
Hits: 280 
क्यों बाइबिल पढ़ना महत्वपूर्ण है

सच में, याहुशुआ को उनके उपदेशों से अलग करना यह शैतान का प्रथम उद्देश्य है। हमें हमेशा चौकन्ना रहना चाहिए, हमेशा पवित्रशास्त्र से तुलना करते रहना कि जो हमें सिखाया जा रहा वह सच है या नहीं!

Comments: 0 
Hits: 300 
एक बार बचाया गया, हमेशा बचाया गया?

कई मसीही आज यह सिखाते हैं, कि बचाए हुए के पास "अनंत सुरक्षा" है, और जब कोई बचाया गया है, तो वह हमेशा के लिए बचाए रहेंगे। दुख की बात है, कि यह गैर-बाइबिल सिद्धांत कईयों को नींद की लोरी के तरह सुला रही है, और सुरक्षा की गलत आश्वासन में ले जा रही है।

Comments: 0 
Hits: 285 
यह दिन याहुवाह के साथ

याहुवाह के साथ एक मज़बूत, सुखी और निजी संबंध बनाने का रहस्य है दैनिक समर्पण करना। दैनिक समर्पण के रहस्य को सीखें और याहुवाह के साथ चलने की सुख में प्रवेश करें!

Comments: 0 
Hits: 313 
उद्धार व्यक्तिगत उपहार है: समूह उपहार नहीं

उद्धार एक उपहार है, लेकिन उस उपहार को प्रत्येक व्यक्ति अपने लिए स्वीकार करना होगा। कोई भी व्यक्ति किसी और के लिए उद्धार स्वीकार नहीं कर सकता!

Comments: 0 
Hits: 324 
दिव्य मार्गदर्शन: सीखिए कैसे व्यक्तिगत रूप से याह के इच्छा को जान सकें।

पृथ्वी के अंतिम संकट के समय से गुजरने वाले प्रत्येक विश्वासी व्यक्ति को, जितना प्रेरितों के समय में अनुभव किया गया, उससे भी कहीं ज्यादा स्वर्गीय पिता के साथ एक करीबी, और अधिक महत्वपूर्ण संबंध की आवश्यकता होगी। हर विश्वासी को व्यक्तिगत मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है क्योंकि हर व्यक्ति की व्यक्तिगत स्थिति बहुत अलग होती है। इसके लिए पिता के साथ न केवल व्यक्तिगत संबंध की आवश्यकता होती है, बल्कि जब वह आपसे बात करता है तो उसकी आवाज़ सुनने और पहचानने की क्षमता की भी आवश्यकता होती है।

Comments: 0 
Hits: 338 
आपके विश्वास को बढ़ाने के लिए ४ सरल कदम!

विश्वास वह हाथ है जो याह के वादों को पकडकर रखता है और स्वर्ग के महान से महान वादों को विनम्र विश्वासी के पास लाता है।

Comments: 0 
Hits: 255 
सोचते हैं कि क्यों बुरे चीज़े होते हैं?

इस दुख भरी दुनिया में, दुखी दिल जानना चाहता है कि, क्यों? अगर याहुवाह प्रेम हैं, तो क्यों बुरे चीज़ें होने से नहीं रोकते हैं? वास्तव में, बहुत अच्छे वजह हैं कि क्यों याहुवाह हमेशा त्रासदियों को रोकता नहीं है, लेकिन वह हमेशा हर कदम पर मजबूत और प्रोत्साहित करने के लिए मौजूद रहता है।

Comments: 0 
Hits: 301 
याहुशुआ: हमारा महायाजक

याहुवाह के अनंत ज्ञान और असीम प्रेम ने एक योजना बनाई जिससे पापी मनुष्य को दिव्य कृपा में बहाल किया जा सके। इस योजना ने मानव जाति को शैतान के नियंत्रण से, और कानूनी छुडौती से भी कहीं ज्यादा ऊँचा उठाया। यह मानव आत्मा के अंदर दिव्य चरित्र की बहाली भी कहलायी जाता है। और यह वही काम है जिसे याहुशुआ अभी भी करने में लगा हुआ है।

Comments: 0 
Hits: 392 
याहुवाह की मुहर

याहुवाह की मुहर धरती पर उपस्थित हर जीवित आत्मा के लिए एक बहुमूल्य उपहार है। जब याहुवाह के क्रोध का कटोरा (जो बिना कृपा का होगा) इस पापी और अपश्चातापी दुनिया पर उंडेला जाएगा तब सिर्फ याहुवाह की मुहर ही अनंत जीवन और जरूरी आत्मिक सुरक्षा दे सकती है।

Comments: 0 
Hits: 482 
पवित्रशास्त्र का स्मरण करना : यह जीवन और मृत्यु का मामला है

पवित्रशास्त्र, मसीही विश्वास के तथ्यों या सिद्धांतों का सुदृढ़ आधार है। यह अनंत जीवन की ओर याह की प्रेरणा का दिशा-निर्देशा है। सभी, जो सच्चे दिल से याहुवाह और उनकी धार्मिकता का अनुकरण करते हैं, वे बाइबिल कि अध्ययन करने और उसमें रहने वाले जीवित शब्दों को याद करने को प्रतिबद्ध करने कि आदत डालेंगे। याहुवाह के वचन के अध्ययन की उपेक्षा करना जीवन पर मृत्यु का चुनना होगा। यह इतनी गंभीर बात है, क्योंकि यदि हम उनके वचन की बढ़ती हुई रोशनी में नहीं चल रहे हैं, तो हम मृत्यु की छाया के बढ़ते अंधेरे में बैठे रह जाते हैं।

Comments: 0 
Hits: 445 
ब्रह्मांड में सबसे शक्तिशाली वादा!
याहुवाह चाहते हैं कि उनके नाम में रहने वाले वादे को जानें और उसका उपयोग करें। इसलिए पवित्रशास्त्र बार-बार विश्वासीयों को “याहुवाह के नाम पर पुकारने” की आग्रह करता है।
Comments: 0 
Hits: 471 
याहुशुआ : मेरे लिए उसका जीवन
यह सच कि याहुशुआ “जो हर एक पक्ष में हमारे समान ही परखे गए फिर भी निष्पाप ही रहे;” सब को प्रोत्साहित करता है कि हम भी जयवंत हो सकते जिस प्रकार से हमारे मसीह जयवंत हुए। पाप और शैतान की लड़ाई में याहुशुआ की निरंतर जीत का रहस्य उसके पिता की शक्ति पर उसकी लगातार निर्भरता में पाया गया। वह ऐसा कोई भी शक्ति का अभ्यास नहीं किया जो हम विश्वास के द्वारा नहीं कर सकते।
Comments: 0 
Hits: 539 
पृथ्वी में से पशु: भविष्यवाणी में संयुक्त राष्ट्र

प्रकाशितवाक्य की पुस्तक एक दिव्य उपहार है। इसमें, याहुवाह ने अपने लोगों को आगे के दिनों के बारे में जानने के लिए महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की है। प्रतीकों का उपयोग करके, स्वर्ग ने उन प्राथमिक शक्तियों को प्रकट किया है जो याहुशुआ के दूसरे आगमन से ठीक पहले उसके संतों के भेष में याहुवाह का विरुद्ध युद्ध करेंगे। भविष्यवाणी ने पूर्व सूचना दी कि सभी शक्तियों में से एक जो पूरी पृथ्वी पर महान अधिकार का प्रयोग करेगा वो संयुक्त राज्य अमेरिका है!

Comments: 0 
Hits: 662 

Loading...
Loading the next set of posts...
No more posts to show.