अश्लील सामग्री देखना: आत्मा को नष्ट करता है!
हर पापमयी कार्य की जड़ जो हमेशा पापमयी स्वभाव में पाई जाती है वो हृदय में बसी हुई होती है। एक पाप जो सभी आयु वर्गों के शादीशुदा और कुवारों में तेजी से महामारी का रूप लेकर पहुँच गया वो पोर्नोग्राफ़ी है। जो लोग पोर्नोग्राफी की सड़क पर यात्रा करते हैं अंततः उनका चरित्र विनाश पर ही खत्म होगा।
Comments: 0 
Hits: 433 
अन्य भाषाओं में बोलना
याहुवाह ने पृथ्वी पर अपने लोगों के ऊपर प्रचुर दान प्रदान कर दिये है। सबसे पेचीदा, और अभी तक कम समझा गया स्वर्ग से प्रदान किया गया दान, भाषाओं में बोलने का है। यह लेख जांच करता है कि धर्मशास्त्र के अनुसार “भाषाओं में बोलने’ का असली अर्थ क्या होता है।
Comments: 0 
Hits: 216 
समलैंगिको के लिए याह का प्रेम
दुर्भाग्यवश, कई लोग जो “मसीही” होने का दावा करते हैं, अक्सर दूसरों कि नंदा करते हैं जिनके पाप उनके आपने पापों से कम या अलग या कम माने जाते हैं। शायद इस दुखद सत्य को इतनी स्पष्टता से कहीं और नहीं दिखाया जाता है जितना कि समलैंगिकता के विषय में दिखाया जाता है। पवित्रशास्त्र बहुत ही स्पष्ट है कि, समलैंगिकता एक पाप है और कोई भी पापी, भले ही किसी भी तरह का पाप क्यों न हो, स्वर्ग में प्रवेश नहीं करेगा। यदि कोई भी अनंत जीवन को पाना चाहेगा उसे दूसरे तरह के पापों के साथ ही साथ, समलैंगिकता के पाप को भी याहुशुआ के हवाले कर देना चाहिए।
Comments: 0 
Hits: 295 
हस्तमैथुन की लत
कई तरह से शैतान आत्मा को भ्रष्ट करने और पवित्रता को नष्ट करने की कोशिश करता है, जोकि यौन अशुद्धता है। व्यभिचार, परस्त्रीगमन और अश्लील साहित्य को व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता है, जो मन को भ्रष्ट करते हैं और शैतान के प्रलोभनों को रोकने वाले दरवाज़ों को और भी अधिक खोलते हैं। हालांकि, एक और क्षेत्र भी है जो आत्मा को शैतान के नियंत्रण में लाता है। विषय की असुविधा के कारण इसकी अक्सर चर्चा नहीं की जाती। वो क्षेत्र है हस्तमैथुन।
Comments: 0 
Hits: 515 
टूटे बाडे के सुधारक
स्वर्ग के सभी नियुक्त समयों पर उपासना के दिनों को बहाल करना दुनिया के अंत के निकट होने का चिन्ह है। इन अंतिम दिनों में विश्वासी, याहुवाह के पर्वों का पालन करेंगे क्योंकि वे व्यवस्था का पालन करने वाले जन हैं, व्यवस्था को तोड़ने वाले नहीं। याहुवाह की व्यवस्था उनके लिए बहुत ही कीमती है और वे अपनी प्रेम-मयी आज्ञाकारिता के द्वारा अपने बनाने वाले का आदर करते हैं।
Comments: 0 
Hits: 259 
अंधियारा दूर करना :दिन कब शुरू होता है?
विरोधी ने सातवें-दिन सब्बात को खोजने के उपयोग में होने वाले कैलेंडर को बदलने के द्वारा सृष्टिकर्ता को योग्य उपासना को चुरा लिया। परंतु सिर्फ यही नहीं जो उसने बदल दिया। बल्कि उसने यह भी बदल दिया कि दिन कब शुरू होता है!
Comments: 0 
Hits: 289 
महान और कीमती वादे।

पृथ्वी के इतिहास के इन बंद होते दिनों में अनंत जीवन प्राप्त करने की वास्तविक कीमत अब सुस्पष्ट रूप से प्रकट है। स्वर्ग को पाने के लिए सब कुछ देने की आवश्यकता होगी। नई परिस्थितियां उठेंगी जो मानव ज्ञान की तुलना में अधिक बुलायेंगी। इसमें भी, जिस प्रकार अन्य परिस्थितियों में, याहुवाह ने हर समस्या के लिए एक समाधान उपलब्ध कराया है। याहुवाह के वचन में जो यह कहता है करने की शक्ति होती है। इसलिए, उसके सबसे बड़े और कीमती वादों की मांग करें! वे आपके लिए उसका उपहार है। आप सुरक्षित रूप से सभी वादों पर आराम कर सकते हैं, क्योंकि वे याह के वचन और उसमें जो वो कहते हैं करने की शक्ति है।

Comments: 0 
Hits: 1301 
पौलुस व गलातियों

बहुत से लोग आज गलातियों की पुस्तक से भ्रमित हो गये है। रविवार का पालन करने वाले दावा करते है कि सब्बात क्रुस पर चढ़ा दिया गया था। शनिवार का पालन करने वाले उन्हीं पदों का उपयोग यह दावा करने के लिए करते हैं कि याहुवाह के पर्व अब और बाध्यकारी नहीं है। हालांकि, शामिल मुद्दों की एक समझ पूरी तरह से कुछ और ही प्रकट करती है।

Comments: 0 
Hits: 1159 
व्यवस्था के अधीन? या अनुग्रह के अधीन?

“और तुम पर पाप की प्रभुता न होगी, क्योंकि तुम व्यवस्था के आधीन नहीं वरन अनुग्रह के आधीन हो” (रोमियो ६:१४)॥  इस पद के दुरुपयोग अनजाने में लाखों लोगों की शैतान के विद्रोह का समर्थन करने में अगुवाई की है! क्या आप उनमें से एक हैं? एक बाईबल आधारित तहकीकात कि सही मायने में “अनुग्रह के अधीन” होने का मतलब क्या होता है।  

Comments: 0 
Hits: 1277 
८ दिनों का एक सप्ताह? जूलियन कैलेंडर का इतिहास

धारणाएं खतरनाक होती है - खासकर जब वे धर्म के दायरे में बनायी गयी हो। यदि कोई अध्यात्म सम्बंधी विश्वास एक गलत धारणा पर आधारित हो, तब उससे संबंधित धार्मिक अभ्यास भी त्रुटिपूर्ण और गलत होंगे। मसीही जगत के हृदय में सबसे खतरनाक धारणा निहित है: कि जब से सृष्टि का निर्माण हुआ, आधुनिक 7 दिन का साप्ताहिक चक्र निरंतर चलता आया है। पहले के जूलियन कैलेंडर की एक करीबी परीक्षा, हालांकि,  इस गंभीर विश्वास को तर्क दोष  साबित करती है।

Comments: 0 
Hits: 1867 
पशु की छाप: यह क्या है और इससे कैसे बचा जाये।

यहुवाह के बड़े प्रेम का हृदय उसके सांसारिक बच्चों के लिए दुखित रहता है। उसके अनंत ज्ञान और पूर्व दृष्टि में, उसने चिन्हों के उपयोग के द्वारा निकट भविष्य की पहेलीनुमा झाँकियो को प्रदान किया है। कम समझे जाने वालो में से एक, फिर भी अत्यंत पहेलीनुमा चिन्ह जो भविष्यवाणी में उपयोग किया गया, वह है..."पशु की छाप”। यह अनिवार्य है कि सभी को यह स्पष्ट समझ हो कि पशु की छाप की संरचना कैसे होती है और इसको लेने से कैसे बचा जाये क्योंकि वे सभी जो इसे ग्रहण करते है वे अनंत मृत्यु की ईश्वरीय सजा को पाते है।  

Comments: 0 
Hits: 2388 
क्रिसमस: आरंभ, इतिहास और परम्पराएं

“होलिडे।” शब्द ज्यादातर लोगों के लिए एक उत्सव के लिए लागू किया जाता है खास तौर पर…क्रिसमस! शब्द “होलिडे” की परिभाषा एक धार्मिक तत्व को प्रगट करती है। जिससे सभी लोग अंजान है। आधुनिक उत्सव के सभी व्यापारिक साजों-सामान के बावजूद, क्रिसमस, दिल में, एक धार्मिक उत्सव बना रहता है। यह एक मौका है जब एक ईश्वर को याद और आदर किया जाता है। अक्सर बहुत से ईमानदार मसीही लोग क्रिसमस में मसीहा को मारने की बात करते है। समस्या यह है कि: यहुशूआ उद्धारकर्ता क्रिसमस के आरम्भ के साथ “में” कभी भी नहीं था । यह खोजने के लिए कि क्रिसमस पर मौजूदा ईश्वर को सम्मानित किया जाता है, यह आवश्यक है कि इसके बुतपरस्त मूल का पता लगाया जाये।  

Comments: 0 
Hits: 1585 
बेबीलोन गिर पड़ा है: उसमें से निकल आओ मेरे लोगों!

बेबीलोन से बाहर आने और उससे अलग होने की बुलाहट उनके लिए है जिन्हें यहुवाह "मेरे लोग" कहता है। इसलिए वे सब जो अपने आपको यहुवाह के लोग मानते है, उन्हें इस चेतावनी पर सावधानीपूर्वक ध्यान देना चाहिए। उन्हें अध्ययन करना चाहिए कि यह कैसे उन पर लागू होती है। विश्वास की कोई भी प्रणाली बची नहीं है। कोई भी विशेष समुदाय निंदा से मुक्त नहीं है। सब जिन्हें यहुवाह मेरे लोग कहता है बेबीलोन से बाहर आने की बुलाहट में शामिल है।  

Comments: 0 
Hits: 1691 
स्वर्ग के पवित्र दिनों

सृष्टिकर्ता, उपासना के निश्चित समय के बारे में एक विशिष्टता रखते है।  आदि में उसने एक समय-पालन की प्रणाली को रचा, कैलेंडर, जिसके द्वारा उसके नियुक्त समयों की, उसके Mo'edim की, गणना की जाये। क्या आप अपनी निष्ठा सृष्टिकर्ता को समर्पित करना चाहते है? स्वर्ग और पृथ्वी पर विश्वासी एवं निष्ठावान लोगों के साथ शामिल हो जाइये। सृष्टिकर्ता की उपासना, उसकी घड़ी: चन्द्रमा के द्वारा गणना किये गये नियुक्त समयों पर करें।

Comments: 0 
Hits: 1352 
यहुवाह की धार्मिकता को प्राप्त करना

यहुवाह की धार्मिकता कैसे प्राप्त करें: सुसमाचार के संदेश की एक बाईबल आधारित जाँच। और जो इसका सच्चा अर्थ होता है “विश्वास से चलना”।  

Comments: 0 
Hits: 1301 
नये चन्द्रमाओं, विश्रामदिनों एवं ग्रेगोरियन कैलेंडर

आधुनिक ग्रेगोरियन कैलेंडर का उपयोग सच्चे सातवें दिन की गणना के लिये नहीं किया जा सकता है क्योंकि इसमें बाईबल सम्बंधी समय माप की महत्वपूर्ण विशेषता का अभाव है: चन्द्र महीनों का। सृष्टिकर्ता का कैलेंडर प्रत्येक महीने के नये चाँद के दिन से शुरु होता है। चूंकि साप्ताहिक चक्र हर नये चाँद के साथ शुरु होता है, ऐसा प्रतीत होता है कि चन्द्र सब्त ग्रेगोरियन सप्ताह द्वारा “प्रवहमान” रहते है। असलियत में, यह ग्रेगोरियन महीने ही है जो चन्द्रमासो के एक अति संगत प्रारुप के माध्यम से प्रवहमान है।  

Comments: 0 
Hits: 1569 
सृष्टिकर्ता का कैलेंडर

जो सृष्टिकर्ता के प्रति अपनी निष्ठा दिखाने की इच्छा रखते है, अवश्य ही सृष्टिकर्ता की उपासना उस दिन करना चाहेंगे जो दिन उन्होंने नियुक्त किया है। उपासना के सही दिन का पता लगाने के लिये, सृष्टि के समय स्थापित किया गया चन्द्र-सौर कैलेंडर का उपयोग करना चाहिए।

Comments: 2 
Hits: 2113 
मदिरा उपहासक है | क्या मसीहियों को मदिरा पीना चाहिए?

अल्कोहल का सेवन एक ऐसा क्षेत्र है जिसने कुछ लोगों को भ्रमित कर दिया है. क्योंकि बाइबल में बहुत से धर्मी लोग जिन्होंने यहुवाह से प्रेम किया और उसकी सेवा की के मदिरा-पान का वर्णन है, यह प्रश्न पूछा जाता है कि क्या यह ऐसा कुछ है जो यहुवाह के लोग बिना पाप किये कर सकते हैं?  

Comments: 0 
Hits: 3065 
१४४०००: यहुशुआ की दुल्हन

उनके लिए जो पृथ्वी पर मुक्तिदाता के पीछे चले हैं आदर और सदा के लिए उपरोक्त दरबार में उसके पीछे चलने के विशेषाधिकार की नियति उनका इंतजार कर रही है. जबकि ये १४४,००० एक विशेष समूह है, यह एकमात्र समूह नहीं है. वे सभी जो इस संख्या में सम्मिलित होना चाहते हैं उनके पास मौका है कि वे पवित्र व्यवस्था की आज्ञाकारिता के लिए अपने आप को समर्पित करें ताकि वे १४४,००० के सदस्य हो सकें.  

Comments: 0 
Hits: 3350 
शान्ति में विश्राम | मृत्यु के बाद क्या होता है?

मृत्यु प्रत्येक मनुष्य का भाग है, क्योंकि प्रत्येक मनुष्य ने पाप किया है. सृष्टिकर्ता, जिसके प्रेमी ह्रदय ने कभी यह नहीं चाहा की उसके बच्चे पाप में दुःख झेलें, उसी ने मृत्यु के समय क्या होता है की सभी शंकाओं को दूर कर दिया.

Comments: 0 
Hits: 4755 

Loading...
Loading the next set of posts...
No more posts to show.