विलापगीत से आशा!

विलापगीत की पुस्तक में विश्वास और आशा की एक शक्तिशाली पाठ है, जो पुष्टि करता है कि याहुवाह ऐसे परमेश्वर हैं जो अपने सभी वादों को पूरा करता है।

Comments: 0 
Hits: 68 
पवित्र लोगों की धीरज

मिस प्रिया चिंतित थी। अरुणा को घर ले जाने कोई नहीं आया था। उसकी माँ कहाँ थी? अपने दिमाग से सबसे खराब स्थिति के खायाल को पीछे धकेलते हुए, उसने नन्ही अरुणा के लिए शांत रहने की कोशिश की जैसे मिनट, घंटों में बदल गए। लेकिन छोटी अरुणा के पास विश्वास, भरोसा और धैर्य के बारे में मिस प्रिया को सिखाने के लिए एक बड़ा सबक था। पता करें कि यह क्या था!

Comments: 0 
Hits: 201 
दूसरों के लिए प्रार्थना करना

माँगो, तो तुम्हें दिया जाएगा; ढूँढ़ो तो तुम पाओगे; खटखटाओ, तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा।" यह वादा आज भी उतना ही उपलब्ध है जितना की पहली बार बोले जाने के समय में था। अपने लिए और दूसरों के लिए अपने प्रार्थना जीवन को मजबूत करने के लिए इस समयोचित लेख को पढ़ें!

Comments: 0 
Hits: 241 
फुर्सत और समय का उपहार

याहुवाह बहुत ही उदार पिता हैं। उनके अधिकांश उपहार उनके सांसारिक बच्चों द्वारा पहचाने नहीं जाते और अनजाने में चले जाते हैं जो उनके महत्व नहीं समझते हैं। लकिन सभी को यह याद रखने की जरूरी है कि, "क्योंकि हर एक अच्छा वरदान और हर एक उत्तम दान ऊपर ही से है" (याकूब १:१७) एक उपहार जिसे शायद किसी भी अन्य उपहार से अधिक अनदेखा किया जाता है वह है समय का उपहार।

Comments: 0 
Hits: 234 
बुलाए गए लोगों के लिए विवाह समारोह

विवाह में एक आदमी और एक औरत का जुड़ना पवित्र और खुशी का समय है। यह आलेख आम तौर पर पुछे जाने वाले प्रश्नों का जवाब देता है, याह-आशीष्ति विवाह, परंपराएँ, विवाह का प्रमाण-पत्र और भी बहुत कुछ।

Comments: 0 
Hits: 238 
लेने से देना अधिक धन्य है . . . .

जब कोई घर में एक्लेसिया स्थापित करता है तो यह जानना अक्सर मुश्किल होता है कि दशमांश और भेंट के साथ क्या करना है। यह लेख दशमांश और भेंट पर बाइबिल के सिद्धांतों की पड़ताल करता है और सुझाव देता है कि कैसे उन्हें याहुवाह को लौटाया जा सकता है, यहां तक ​​कि घर में एक्लेसिया रखते हुए भी।

Comments: 0 
Hits: 280 
प्रार्थना : आत्मा की साँस

“प्रार्थना आत्मा की साँस है। यह आत्मीय शक्ति का रहस्य है। अनुग्रह के किसी अन्य साधन को प्रतिस्थापित नहीं किया जा सकता है और फिर भी आत्मा के स्वास्थ्य को संरक्षित किया जा सकता है। प्रार्थना हृदय को जीवन के स्रोत के साथ तुरंत संपर्क में लाती है, और धार्मिक अनुभव की नस और मांसपेशियों को मजबूत करती है।"

Comments: 0 
Hits: 283 
विश्वास ही विजय है!

सभी जो सच्ची सब्बात को स्वीकारते हैं, वे ऐसे मुश्किलों का सेमना करेंगे जो इन्सान द्वारा सुलझाया नहीं जा सकता। याहुवाह ऐसे परिक्षाओं को अनुमति देते हैं ताकि उनके बच्चे उनको ढूँढ सकें। यह केवल तभी होता है जब वाचा-रखने वाले एलोह के द्वारा दुर्गम समस्याओं का समाधान किया जाता है, एक व्यक्ति का विश्वास मजबूत होता है और विश्वास आज याह के बच्चों की सबसे बड़ी आवश्यकता है।

Comments: 0 
Hits: 290 
मसीही और अलंकरण

मनुष्य के मन के लिए, जो मूल रूप से उसके सृष्टिकर्ता की छवि में बनाया गया था, सुंदरता का आनंद लेना और उसकी इच्छा करना स्वाभाविक है। सबसे आम क्षेत्रों में से एक जिसमें लोग सुंदरता की अपनी इच्छा पर ध्यान केंद्रित करते हैं, वह है व्यक्तिगत अलंकरण। अपने बाह्य रूप की ओर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास करना घमंड का शिकार होना है, वह पाप जिसके लिए लूसिफर गिर गया। विश्वासी, इन अंतिम दिनों में, स्वर्ग की पवित्रता को विचलित करने वाली या गलत तरीके से प्रस्तुत करने वाली हर चीज को अलग रख देंगे।

Comments: 0 
Hits: 310 
आत्मा में और सच्‍चाई में आराधना करना

चाहे आप एक छोटे समूह के साथ आराधना कर रहे हों, या केवल अपने परिवार के साथ, या अपने आप से, घर पर उपासना करते समय एक समृद्ध सब्बात के दिन का आशीर्वाद प्राप्त करना संभव है।

Comments: 0 
Hits: 273 
सब्बात में प्रसन्न होना

सब्बात रखना एक भोझ नहीं बल्कि खुशी है! सब्बात को आनंदमय पाने का रहस्य सीखिए।

Comments: 0 
Hits: 329 
पापी की आशा: ये आदमी पापियों को स्वीकार करता है!

याहुवाह के पास आने के लिए आपको तब तक इंतजार करने कि जरूरत नहीं है जब आप पाप करना छोड़ दिया हो। अब ही आ जाइए। आप जैसे हैं वैसे ही, क्योंकि वह पापियों को स्वीकार करता है!

Comments: 0 
Hits: 531 
क्यों बाइबिल पढ़ना महत्वपूर्ण है

सच में, याहुशुआ को उनके उपदेशों से अलग करना यह शैतान का प्रथम उद्देश्य है। हमें हमेशा चौकन्ना रहना चाहिए, हमेशा पवित्रशास्त्र से तुलना करते रहना कि जो हमें सिखाया जा रहा वह सच है या नहीं!

Comments: 0 
Hits: 498 
एक बार बचाया गया, हमेशा बचाया गया?

कई मसीही आज यह सिखाते हैं, कि बचाए हुए के पास "अनंत सुरक्षा" है, और जब कोई बचाया गया है, तो वह हमेशा के लिए बचाए रहेंगे। दुख की बात है, कि यह गैर-बाइबिल सिद्धांत कईयों को नींद की लोरी के तरह सुला रही है, और सुरक्षा की गलत आश्वासन में ले जा रही है।

Comments: 0 
Hits: 510 
यह दिन याहुवाह के साथ

याहुवाह के साथ एक मज़बूत, सुखी और निजी संबंध बनाने का रहस्य है दैनिक समर्पण करना। दैनिक समर्पण के रहस्य को सीखें और याहुवाह के साथ चलने की सुख में प्रवेश करें!

Comments: 0 
Hits: 549 
उद्धार व्यक्तिगत उपहार है: समूह उपहार नहीं

उद्धार एक उपहार है, लेकिन उस उपहार को प्रत्येक व्यक्ति अपने लिए स्वीकार करना होगा। कोई भी व्यक्ति किसी और के लिए उद्धार स्वीकार नहीं कर सकता!

Comments: 0 
Hits: 606 
दिव्य मार्गदर्शन: सीखिए कैसे व्यक्तिगत रूप से याह के इच्छा को जान सकें।

पृथ्वी के अंतिम संकट के समय से गुजरने वाले प्रत्येक विश्वासी व्यक्ति को, जितना प्रेरितों के समय में अनुभव किया गया, उससे भी कहीं ज्यादा स्वर्गीय पिता के साथ एक करीबी, और अधिक महत्वपूर्ण संबंध की आवश्यकता होगी। हर विश्वासी को व्यक्तिगत मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है क्योंकि हर व्यक्ति की व्यक्तिगत स्थिति बहुत अलग होती है। इसके लिए पिता के साथ न केवल व्यक्तिगत संबंध की आवश्यकता होती है, बल्कि जब वह आपसे बात करता है तो उसकी आवाज़ सुनने और पहचानने की क्षमता की भी आवश्यकता होती है।

Comments: 0 
Hits: 566 
आपके विश्वास को बढ़ाने के लिए ४ सरल कदम!

विश्वास वह हाथ है जो याह के वादों को पकडकर रखता है और स्वर्ग के महान से महान वादों को विनम्र विश्वासी के पास लाता है।

Comments: 0 
Hits: 472 
सोचते हैं कि क्यों बुरे चीज़े होते हैं?

इस दुख भरी दुनिया में, दुखी दिल जानना चाहता है कि, क्यों? अगर याहुवाह प्रेम हैं, तो क्यों बुरे चीज़ें होने से नहीं रोकते हैं? वास्तव में, बहुत अच्छे वजह हैं कि क्यों याहुवाह हमेशा त्रासदियों को रोकता नहीं है, लेकिन वह हमेशा हर कदम पर मजबूत और प्रोत्साहित करने के लिए मौजूद रहता है।

Comments: 0 
Hits: 502 
याहुशुआ: हमारा महायाजक

याहुवाह के अनंत ज्ञान और असीम प्रेम ने एक योजना बनाई जिससे पापी मनुष्य को दिव्य कृपा में बहाल किया जा सके। इस योजना ने मानव जाति को शैतान के नियंत्रण से, और कानूनी छुडौती से भी कहीं ज्यादा ऊँचा उठाया। यह मानव आत्मा के अंदर दिव्य चरित्र की बहाली भी कहलायी जाता है। और यह वही काम है जिसे याहुशुआ अभी भी करने में लगा हुआ है।

Comments: 0 
Hits: 653 

Loading...
Loading the next set of posts...
No more posts to show.