While WLC continues to uphold the observance of the Seventh-Day Sabbath, which is at the heart of Yahuwah's moral law, the 10 Commandments, we no longer believe that the annual feast days are binding upon believers today. Still, though, we humbly encourage all to set time aside to commemorate the yearly feasts with solemnity and joy, and to learn from Yahuwah’s instructions concerning their observance under the Old Covenant. Doing so will surely be a blessing to you and your home, as you study the wonderful types and shadows that point to the exaltation of Messiah Yahushua as the King of Kings, the Lord of Lords, the conquering lion of the tribe of Judah, and the Lamb of Yahuwah that takes away the sins of the world.
World’s Last Chance
Preparing Hearts and Minds for Yahushua's Sudden Return!

व्यवहारिक ईश्वर-भक्ति

3334 Articles in 21 Languages

हमारी दिन भर की रोटी आज हमें दे

मत्ती ६:८-११ : जिस रोटी के बारे में उद्धारकर्ता बात कर रहे हैं वह आत्मिक रोटी है। जैसे भौतिक रोटी भौतिक जीवन देती है, आत्मिक रोटी हमें आध्यात्मिक रूप से मजबूत करती है और अनन्त जीवन की ओर ले जाती है! क्या आपको अपनी दैनिक रोटी मिल रही है?

Comments: 0 
Hits: 54 
स्तुति! असममित युद्ध में एक उपकरण!

स्तुति आध्यात्मिक युद्ध का इतना महत्वपूर्ण हथियार है। जब आप हर स्थिति में याहुवाह की स्तुति करते हैं, तो आप पूरे विश्व के सामने उसके प्रेम और बचाने की शक्ति में अपने विश्वास की घोषणा कर रहे हैं। वह विश्वास, जिसे स्तुति के साथ क्रियान्वित किया जाता है, अपना प्रभाव डालेगा और आपको शत्रु के जाल से बचाएगा।

Comments: 0 
Hits: 49 
विलापगीत से आशा!

विलापगीत की पुस्तक में विश्वास और आशा की एक शक्तिशाली पाठ है, जो पुष्टि करता है कि याहुवाह ऐसे परमेश्वर हैं जो अपने सभी वादों को पूरा करता है।

Comments: 0 
Hits: 105 
दूसरों के लिए प्रार्थना करना

माँगो, तो तुम्हें दिया जाएगा; ढूँढ़ो तो तुम पाओगे; खटखटाओ, तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा।" यह वादा आज भी उतना ही उपलब्ध है जितना की पहली बार बोले जाने के समय में था। अपने लिए और दूसरों के लिए अपने प्रार्थना जीवन को मजबूत करने के लिए इस समयोचित लेख को पढ़ें!

Comments: 0 
Hits: 272 
फुर्सत और समय का उपहार

याहुवाह बहुत ही उदार पिता हैं। उनके अधिकांश उपहार उनके सांसारिक बच्चों द्वारा पहचाने नहीं जाते और अनजाने में चले जाते हैं जो उनके महत्व नहीं समझते हैं। लकिन सभी को यह याद रखने की जरूरी है कि, "क्योंकि हर एक अच्छा वरदान और हर एक उत्तम दान ऊपर ही से है" (याकूब १:१७) एक उपहार जिसे शायद किसी भी अन्य उपहार से अधिक अनदेखा किया जाता है वह है समय का उपहार।

Comments: 0 
Hits: 261 
बुलाए गए लोगों के लिए विवाह समारोह

विवाह में एक आदमी और एक औरत का जुड़ना पवित्र और खुशी का समय है। यह आलेख आम तौर पर पुछे जाने वाले प्रश्नों का जवाब देता है, याह-आशीष्ति विवाह, परंपराएँ, विवाह का प्रमाण-पत्र और भी बहुत कुछ।

Comments: 0 
Hits: 268 
लेने से देना अधिक धन्य है . . . .

जब कोई घर में एक्लेसिया स्थापित करता है तो यह जानना अक्सर मुश्किल होता है कि दशमांश और भेंट के साथ क्या करना है। यह लेख दशमांश और भेंट पर बाइबिल के सिद्धांतों की पड़ताल करता है और सुझाव देता है कि कैसे उन्हें याहुवाह को लौटाया जा सकता है, यहां तक ​​कि घर में एक्लेसिया रखते हुए भी।

Comments: 0 
Hits: 312 
प्रार्थना : आत्मा की साँस

“प्रार्थना आत्मा की साँस है। यह आत्मीय शक्ति का रहस्य है। अनुग्रह के किसी अन्य साधन को प्रतिस्थापित नहीं किया जा सकता है और फिर भी आत्मा के स्वास्थ्य को संरक्षित किया जा सकता है। प्रार्थना हृदय को जीवन के स्रोत के साथ तुरंत संपर्क में लाती है, और धार्मिक अनुभव की नस और मांसपेशियों को मजबूत करती है।"

Comments: 0 
Hits: 309 
विश्वास ही विजय है!

सभी जो सच्ची सब्बात को स्वीकारते हैं, वे ऐसे मुश्किलों का सेमना करेंगे जो इन्सान द्वारा सुलझाया नहीं जा सकता। याहुवाह ऐसे परिक्षाओं को अनुमति देते हैं ताकि उनके बच्चे उनको ढूँढ सकें। यह केवल तभी होता है जब वाचा-रखने वाले एलोह के द्वारा दुर्गम समस्याओं का समाधान किया जाता है, एक व्यक्ति का विश्वास मजबूत होता है और विश्वास आज याह के बच्चों की सबसे बड़ी आवश्यकता है।

Comments: 0 
Hits: 319 
मसीही और अलंकरण

मनुष्य के मन के लिए, जो मूल रूप से उसके सृष्टिकर्ता की छवि में बनाया गया था, सुंदरता का आनंद लेना और उसकी इच्छा करना स्वाभाविक है। सबसे आम क्षेत्रों में से एक जिसमें लोग सुंदरता की अपनी इच्छा पर ध्यान केंद्रित करते हैं, वह है व्यक्तिगत अलंकरण। अपने बाह्य रूप की ओर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास करना घमंड का शिकार होना है, वह पाप जिसके लिए लूसिफर गिर गया। विश्वासी, इन अंतिम दिनों में, स्वर्ग की पवित्रता को विचलित करने वाली या गलत तरीके से प्रस्तुत करने वाली हर चीज को अलग रख देंगे।

Comments: 0 
Hits: 338 
आत्मा में और सच्‍चाई में आराधना करना

चाहे आप एक छोटे समूह के साथ आराधना कर रहे हों, या केवल अपने परिवार के साथ, या अपने आप से, घर पर उपासना करते समय एक समृद्ध सब्बात के दिन का आशीर्वाद प्राप्त करना संभव है।

Comments: 0 
Hits: 301 
सब्बात में प्रसन्न होना

सब्बात रखना एक भोझ नहीं बल्कि खुशी है! सब्बात को आनंदमय पाने का रहस्य सीखिए।

Comments: 0 
Hits: 363 
यह दिन याहुवाह के साथ

याहुवाह के साथ एक मज़बूत, सुखी और निजी संबंध बनाने का रहस्य है दैनिक समर्पण करना। दैनिक समर्पण के रहस्य को सीखें और याहुवाह के साथ चलने की सुख में प्रवेश करें!

Comments: 0 
Hits: 582 
दिव्य मार्गदर्शन: सीखिए कैसे व्यक्तिगत रूप से याह के इच्छा को जान सकें।

पृथ्वी के अंतिम संकट के समय से गुजरने वाले प्रत्येक विश्वासी व्यक्ति को, जितना प्रेरितों के समय में अनुभव किया गया, उससे भी कहीं ज्यादा स्वर्गीय पिता के साथ एक करीबी, और अधिक महत्वपूर्ण संबंध की आवश्यकता होगी। हर विश्वासी को व्यक्तिगत मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है क्योंकि हर व्यक्ति की व्यक्तिगत स्थिति बहुत अलग होती है। इसके लिए पिता के साथ न केवल व्यक्तिगत संबंध की आवश्यकता होती है, बल्कि जब वह आपसे बात करता है तो उसकी आवाज़ सुनने और पहचानने की क्षमता की भी आवश्यकता होती है।

Comments: 0 
Hits: 595 
आपके विश्वास को बढ़ाने के लिए ४ सरल कदम!

विश्वास वह हाथ है जो याह के वादों को पकडकर रखता है और स्वर्ग के महान से महान वादों को विनम्र विश्वासी के पास लाता है।

Comments: 0 
Hits: 506 
सोचते हैं कि क्यों बुरे चीज़े होते हैं?

इस दुख भरी दुनिया में, दुखी दिल जानना चाहता है कि, क्यों? अगर याहुवाह प्रेम हैं, तो क्यों बुरे चीज़ें होने से नहीं रोकते हैं? वास्तव में, बहुत अच्छे वजह हैं कि क्यों याहुवाह हमेशा त्रासदियों को रोकता नहीं है, लेकिन वह हमेशा हर कदम पर मजबूत और प्रोत्साहित करने के लिए मौजूद रहता है।

Comments: 0 
Hits: 543 
पवित्रशास्त्र का स्मरण करना : यह जीवन और मृत्यु का मामला है

पवित्रशास्त्र, मसीही विश्वास के तथ्यों या सिद्धांतों का सुदृढ़ आधार है। यह अनंत जीवन की ओर याह की प्रेरणा का दिशा-निर्देशा है। सभी, जो सच्चे दिल से याहुवाह और उनकी धार्मिकता का अनुकरण करते हैं, वे बाइबिल कि अध्ययन करने और उसमें रहने वाले जीवित शब्दों को याद करने को प्रतिबद्ध करने कि आदत डालेंगे। याहुवाह के वचन के अध्ययन की उपेक्षा करना जीवन पर मृत्यु का चुनना होगा। यह इतनी गंभीर बात है, क्योंकि यदि हम उनके वचन की बढ़ती हुई रोशनी में नहीं चल रहे हैं, तो हम मृत्यु की छाया के बढ़ते अंधेरे में बैठे रह जाते हैं।

Comments: 0 
Hits: 822 
ब्रह्मांड में सबसे शक्तिशाली वादा!
याहुवाह चाहते हैं कि उनके नाम में रहने वाले वादे को जानें और उसका उपयोग करें। इसलिए पवित्रशास्त्र बार-बार विश्वासीयों को “याहुवाह के नाम पर पुकारने” की आग्रह करता है।
Comments: 0 
Hits: 865 
अश्लील सामग्री देखना: आत्मा को नष्ट करता है!
हर पापमयी कार्य की जड़ जो हमेशा पापमयी स्वभाव में पाई जाती है वो हृदय में बसी हुई होती है। एक पाप जो सभी आयु वर्गों के शादीशुदा और कुवारों में तेजी से महामारी का रूप लेकर पहुँच गया वो पोर्नोग्राफ़ी है। जो लोग पोर्नोग्राफी की सड़क पर यात्रा करते हैं अंततः उनका चरित्र विनाश पर ही खत्म होगा।
Comments: 0 
Hits: 4889 
समलैंगिको के लिए याह का प्रेम
दुर्भाग्यवश, कई लोग जो “मसीही” होने का दावा करते हैं, अक्सर दूसरों कि नंदा करते हैं जिनके पाप उनके आपने पापों से कम या अलग या कम माने जाते हैं। शायद इस दुखद सत्य को इतनी स्पष्टता से कहीं और नहीं दिखाया जाता है जितना कि समलैंगिकता के विषय में दिखाया जाता है। पवित्रशास्त्र बहुत ही स्पष्ट है कि, समलैंगिकता एक पाप है और कोई भी पापी, भले ही किसी भी तरह का पाप क्यों न हो, स्वर्ग में प्रवेश नहीं करेगा। यदि कोई भी अनंत जीवन को पाना चाहेगा उसे दूसरे तरह के पापों के साथ ही साथ, समलैंगिकता के पाप को भी याहुशुआ के हवाले कर देना चाहिए।
Comments: 0 
Hits: 1525 

Loading...
Loading the next set of posts...
No more posts to show.